Noida Extension / Greater Noida West : UpdatesPosted on: 2012-10-05

Noida Extension / Greater Noida West : UpdatesPosted on: 05 October 2012 10:10 am

Doraemon


किसान चौक को मान्यता देने की मांग ग्रेटर नोएडा : ग्रेटर नोएडा वेस्ट एरिया में किसान चौक को मान्यता दिलाने के लिए किसान बुधवार को अथॉरिटी एसीईओ से मिले। किसान संघर्ष समिति ने मांग की है कि हिंडन नदी के पास बने गोलचक्कर का नाम किसान चौक रखा जाए। किसानों ने बताया कि एक बिल्डर ने इस चौक का नाम अपने नाम पर रख दिया है। जबकि इस गोलचक्कर पर ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी ने गौतमबुद्ध की चारमुखी लाट पर प्रतिमा लगा रखी है। एसीईओ ने किसानों को आश्वासन दिया कि वे इस संबंध में सीईओ के साथ बात करेंगे। इसके बाद ही कोई फैसला किया जाएगा। एसीईओ से मिलने वालों में किसान संघर्ष समिति के प्रवक्ता मनवीर भाटी, रोजा गांव के प्रधान अजय समेत कई किसान शामिल थे। बता दें कि किसानों ने मंगलवार को महापंचायत कर गौड़ सिटी चौक पर किसान चौक का बोर्ड लगा दिया था। http://navbharattimes.indiatimes.com/articleshow/16660142.cms

Noida Extension / Greater Noida West : UpdatesPosted on: 05 October 2012 10:11 am

Doraemon


मुआवजे के रेट की पॉलिसी में बदलाव पर हो रहा विचार यूपी में किसानों को जमीन अधिग्रहण के बदले सर्कल रेट का 6 गुना मुआवजा देने की योजना परवान नहीं चढ़ रही है। अब इस पर नए सिरे से चिंतन किया जा रहा है। मुआवजे के रेट की पॉलिसी में बदलाव की तैयारी की जा रही है। इसमें सर्कल रेट के 6 गुना के बजाय दूसरा फॉर्म्युला अपनाया जा सकता है। सर्कल रेट का 6 गुना किसानों के लिए फायदे का सौदा साबित नहीं हो रहा है। यह खुलासा बुधवार को सूरजपुर में यूपी के पूर्व मंत्री और सीनियर एसपी नेता नरेंद्र भाटी ने किया। भाटी ने बताया कि प्रदेश में सर्कल रेट का 6 गुना मुआवजा देने में तकनीकी दिक्कत सामने आ रही है। जमीन कई प्रकार की होती है और सभी के सर्कल रेट अलग-अलग होते हैं। गांव से सटी जमीन के रेट अधिक हैं तो दूरदराज में रेट कम होता है। इसी तरह उपजाऊ व कम उपजाऊ जमीन के सर्कल रेट में अंतर होता है। दिक्कत यह है कई जगह सर्कल रेट का 6 गुना मुआवजा वहां के वर्तमान मुआवजे से भी कम है। इसके चलते किसान जमीन देने से इनकार कर रहे हैं। नरेंद्र भाटी ने बताया कि किसान सैफई में एक प्रोजेक्ट के लिए और दूसरे जिले में एनटीपीसी के प्रोजेक्ट के लिए सर्कल रेट के 6 गुना रेट पर जमीन देने से इनकार कर रहे हैं। इसके चलते कोशिश की जा रही है कि पहले की तरह एक इलाके में समान रेट हो जाएं। बीच का रास्ता निकालने पर विचार किया जा रहा है। कोर्ट केस के चलते नहीं तय हो पा रहा मुआवजा रेट गौतमबुद्धनगर में सर्कल रेट का 6 गुना मुआवजा देने से अथॉरिटीज के हाथ खड़ा करने के सवाल पर उन्होंने बताया कि यह जरूरी नहीं है कि सरकार अथॉरिटी की बात मानेगी ही। कोर्ट में पेंडिंग किसानों की याचिकाओं के कारण जिले में मुआवजे का रेट तय करने में देरी हो रही है। ग्रेटर नोएडा और यमुना अथॉरिटी एरिया में 630 मुकदमे हाई कोर्ट में पेंडिंग हैं। जिले में कमिश्नरी लाने का प्रयास किया जा रहा है। इससे यहां विकास पटरी पर आ जाएगा। http://navbharattimes.indiatimes.com/articleshow/16660139.cms

Noida Extension / Greater Noida West : UpdatesPosted on: 05 October 2012 10:16 am

Doraemon


Noida Extn farmers to get cheques worth Rs 150cr GREATER NOIDA: The Greater Noida Authority on Thursday released Rs 150 crore to its land acquisition department to resume disbursement of pending cheques to farmers of Greater Noida West (Noida Extension). This step is in response to farmers venting their ire against developers last month by stalling construction of few housing projects. The Authority has also decided to take a loan of around Rs 800 crore from banks to pay the farmers their compensation dues at the enhanced rate of 64.7%. The Authority had stalled disbursement of compensation cheques in December last year as it was facing a severe cash crunch. The Authority is yet to pay at least Rs 1,000 crore due to the farmers as enhanced compensation directed by the Allahabad high court in October last year. While it has already written to the state government requesting financial aid, developers with upcoming projects in the Greater Noida West area have also resumed paying their instalments on allotment after the NCR Planning Board approved the Master Plan 2021. "The Authority hopes to receive all due instalments from developers for the period between October 2011 and September 2012 by the end of this month. Following this, we hope to pay the farmers their enhanced compensation and settle their grievances," an Authority official said. "Once money from the developers is received, the Authority can also resume development work that had remained stalled for almost 10 months," he said. The developers owe the Authority around Rs 20,000 crore as instalment for the land allotted to them in Noida Extension. The Authority had collected nearly Rs 300 crore from the developers. However, following the land dispute, most developers stopped paying the instalments. For just the period between October 2011 and September 2012, the developers owe the Authority a sum of around Rs 1,000 crore. http://timesofindia.indiatimes.com/city/noida/Noida-Extn-farmers-to-get-cheques-worth-Rs-150cr/articleshow/16677569.cms

Noida Extension / Greater Noida West : UpdatesPosted on: 05 October 2012 10:20 am

Karan


Lo... now farmers get MORE money for drinks and luxury cars..

Noida Extension / Greater Noida West : UpdatesPosted on: 05 October 2012 10:22 am

Karan


[quote="Doraemon" post=80]मुआवजे के रेट की पॉलिसी में बदलाव पर हो रहा विचार यूपी में किसानों को जमीन अधिग्रहण के बदले सर्कल रेट का 6 गुना मुआवजा देने की योजना परवान नहीं चढ़ रही है। अब इस पर नए सिरे से चिंतन किया जा रहा है। मुआवजे के रेट की पॉलिसी में बदलाव की तैयारी की जा रही है। इसमें सर्कल रेट के 6 गुना के बजाय दूसरा फॉर्म्युला अपनाया जा सकता है। सर्कल रेट का 6 गुना किसानों के लिए फायदे का सौदा साबित नहीं हो रहा है। यह खुलासा बुधवार को सूरजपुर में यूपी के पूर्व मंत्री और सीनियर एसपी नेता नरेंद्र भाटी ने किया। भाटी ने बताया कि प्रदेश में सर्कल रेट का 6 गुना मुआवजा देने में तकनीकी दिक्कत सामने आ रही है। जमीन कई प्रकार की होती है और सभी के सर्कल रेट अलग-अलग होते हैं। गांव से सटी जमीन के रेट अधिक हैं तो दूरदराज में रेट कम होता है। इसी तरह उपजाऊ व कम उपजाऊ जमीन के सर्कल रेट में अंतर होता है। दिक्कत यह है कई जगह सर्कल रेट का 6 गुना मुआवजा वहां के वर्तमान मुआवजे से भी कम है। इसके चलते किसान जमीन देने से इनकार कर रहे हैं। नरेंद्र भाटी ने बताया कि किसान सैफई में एक प्रोजेक्ट के लिए और दूसरे जिले में एनटीपीसी के प्रोजेक्ट के लिए सर्कल रेट के 6 गुना रेट पर जमीन देने से इनकार कर रहे हैं। इसके चलते कोशिश की जा रही है कि पहले की तरह एक इलाके में समान रेट हो जाएं। बीच का रास्ता निकालने पर विचार किया जा रहा है। कोर्ट केस के चलते नहीं तय हो पा रहा मुआवजा रेट गौतमबुद्धनगर में सर्कल रेट का 6 गुना मुआवजा देने से अथॉरिटीज के हाथ खड़ा करने के सवाल पर उन्होंने बताया कि यह जरूरी नहीं है कि सरकार अथॉरिटी की बात मानेगी ही। कोर्ट में पेंडिंग किसानों की याचिकाओं के कारण जिले में मुआवजे का रेट तय करने में देरी हो रही है। ग्रेटर नोएडा और यमुना अथॉरिटी एरिया में 630 मुकदमे हाई कोर्ट में पेंडिंग हैं। जिले में कमिश्नरी लाने का प्रयास किया जा रहा है। इससे यहां विकास पटरी पर आ जाएगा। http://navbharattimes.indiatimes.com/articleshow/16660139.cms[/quote] Will this make any impact on existing buyers.. can builder charge from old buyers.. six time componsation is what 1400X 6 = 8400/psm...???

Noida Extension / Greater Noida West : UpdatesPosted on: 05 October 2012 10:23 am

Nitesh Sharma


I guess such order if passed.. will be applicable for new acquisation.. it can not be passed from back dated...

Noida Extension / Greater Noida West : UpdatesPosted on: 05 October 2012 10:50 am

Raj


yes... Noida extension is providing approx 3 lakh houses.. there is no land available in NCR in maxium area... only high rise will be thre.. Noida Extension will feed approx 10 lakh population...

Noida Extension / Greater Noida West : UpdatesPosted on: 05 October 2012 10:57 am

Rajat Sharma


yes.. Noida Extension is sure BIG land bank on good location.. however not sure how much time this area will see as CITY. you dont forget Neharpar :(

Noida Extension / Greater Noida West : UpdatesPosted on: 05 October 2012 01:00 pm

Buyer


Noida Ext will soon open with higher rates after new year... invest now and rest

Noida Extension / Greater Noida West : UpdatesPosted on: 05 October 2012 08:12 pm

Doraemon


ग्रेनो वेस्ट : आशियाने पर अड़चनों का साया ग्रेटर नोएडा ग्रेनो वेस्ट में बिल्डरों की साइटों पर निर्माण कार्य शुरू करने में भले ही कानूनी अड़चन समाप्त हो गई हो। लेकिन अब भी प्रोजेक्ट शुरू होने में वक्त लग सकता है। बिल्डरों पर एक साथ तीन तरफ से मार पड़ रही है। एक ओर, बिल्डरों को अथॉरिटी को किश्त देनी है तो दूसरी ओर बेसमेंट खनन की रॉयल्टी जमा करानी है। इसके साथ ही साइट पर काम शुरू करने के लिए भी काफी रकम की जरूरत है। हालांकि बिल्डरों की इस दलील के बाद भी अथॉरिटी ने साफ कर दिया है कि उसे तय समय पर किश्त चाहिए ताकि किसानों को बढ़ा हुआ मुआवजा दिया जा सके। अथॉरिटी में मंगलवार को ग्रेनो वेस्ट के कई बिल्डरों के प्रतिनिधि पहुंचे। नाम न छापने की शर्त पर बिल्डरों के नुमाइंंदों ने बताया कि काम शुरू करने में अभी वक्त लग सकता है। बिल्डरों को इस समय निवेशकों से पैसे नहीं मिल रहे हैं। अभी पैसों की सबसे अधिक जरूरत है। बिल्डरों को 23 अक्टूबर से पहले अथॉरिटी को किश्त देनी है। किश्त जमा करने के लिए यह जरूरी है कि निवेशकों से पैसे मिलें। अथॉरिटी से टाइम और बढ़ाने का अनुरोध किया गया था, लेकिन यहां से कोई राहत नहीं मिल रही है। अथॉरिटी अफसरों का कहना है कि उन्हें किसानों को बढ़ा हुआ मुआवजा देना है। जब तक बिल्डरों से किश्तें नहीं मिल जातीं, किसानों को मुआवजा देना संभव नहीं है। दूसरी और बिल्डरों के अधिकारियों की लाइन अब जिला प्रशासन में भी लग रही है। बेसमेंट की खुदाई के लिए बिल्डरों को खनन डिपार्टमेंट में रॉयल्टी के रूप में मोटी रकम जमा करानी है। इसके अलावा साइट पर काम शुरू करने के लिए भी एक साथ कई करोड़ रुपये की जरूरत है। अधिकारियों का कहना है कि लेबर और मटीरियल कॉस्ट काफी बढ़ गए हैं। जब तक फंड की पूरी व्यवस्था नहीं हो जाती, तब तक ग्रेनो वेस्ट के प्रोजेक्ट पर काम शुरू करना संभव नहीं है। काम शुरू करने मंे एक से दो महीने का वक्त लग सकता है। निवेशकों पर भी दोहरी मार निवेशकों का कहना है कि काम शुरू होने में जितना अधिक समय लगेगा, पजेशन मिलने में उतनी ही देरी होगी। निवेशकों के ऊपर भी इस समय दोहरी मार पड़ रही है। एक तरफ उन्हें बिल्डरों की किश्त देनी पड़ रही है तो दूसरी ओर घर का किराया देना पड़ रहा है। नोएडा एक्सटेंशन फ्लैट ओनर वेलफेयर असोसिएशन के प्रेसिडेंट अभिषेक कुमार का कहना है कि बिल्डर अपने साइट पर जल्द से जल्द काम शुरू करा सकें, इसके लिए निवेशकों से भी अनुरोध किया जा रहा है कि जितना संभव हो बिल्डरों को पैसा दे दें। Navbharat Times -27.09.2012

Noida Extension / Greater Noida West : UpdatesPosted on: 05 October 2012 08:12 pm

Doraemon


'नाम बदलने से नहीं चलेगा काम' ग्रेटर नोएडा किसानों ने कहा है कि नोएडा एक्सटेंशन का नाम बदलकर ग्रेटर नोएडा वेस्ट रखने से किसानांे की समस्याओं का समाधान नहीं हो सकता। जब तक किसानांे की समस्याएं दूर नहीं होगी किसान आंदोलन करने को मजबूर होंगे। किसानांे ने गुरुवार को ग्रेनो वेस्ट एरिया में मीटिंग की। इसमें अपील की गई कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने तक अथॉरिटी और बिल्डर ग्रेटर नोएडा वेस्ट एरिया मंे कंस्ट्रक्शन शुरू न करे। किसान कई बार ग्रेनो अथॉरिटी के सीईओ रमा रमण को अपनी मांगें बता चुके हंै। इसके बाद भी किसानांे की समस्या हल नही हुई है। संयुक्त किसान संघर्ष समिति के प्रवक्ता इंद्र नागर ने कहा कि किसान की जमीन अथॉरिटी ने ले ली जिससे किसानों बच्चे बेरोजगार हो गए हंै। ग्रेटर नोएडा वेस्ट मंे बिल्डरांे के प्रोजेक्ट रद्द करके इंडस्ट्री लगाई जाएं, ताकि लोगों को रोजगार मिल सके। मीटिंग मंे बिसरख ब्लॉक प्रमुख अमरीश भाटी, नितिन भाटी, जय यादव, प्रदीप यादव, महकार नागर समेत कई किसान शामिल Navbharat times -28.09.2012

Noida Extension / Greater Noida West : UpdatesPosted on: 05 October 2012 08:12 pm

Doraemon


ग्रेनो वेस्ट में जागरूकता अभियान चलाएंगे किसान सं, ग्रेटर नोएडा : संयुक्त किसान संघर्ष समिति दो अक्टूबर को ग्रेटर नोएडा वेस्ट में पंचायत करेगी। शुक्रवार को बिसरख गांव में हुई पंचायत में निर्णय लिया गया कि मांग पूरी होने तक आंदोलन जारी रहेगा। प्राधिकरण ने किसानों से किए वादे पूरे नहीं किए तो निर्माण कार्य रोका जाएगा। समिति के संरक्षक राजपाल सिंह भाटी ने कहा कि उद्योगों के नाम पर जमीन अधिग्रहीत की गई थी, लेकिन बाद में इसे बिल्डरों को बेच दिया गया। किसानों को काफी कम मुआवजा दिया गया। समिति के प्रवक्ता इंद्र नागर ने कहा कि प्राधिकरण को शीघ्र अर्जित भूमि की एवज में दस फीसद भूखंडों का आवंटन करना चाहिए। 64.7 फीसद अतिरिक्त मुआवजा देने में भी देरी की जा रही है। किसानों को अविलंब मुआवजे के चेक दिए जाए। किसानों को जागरूक करने के लिए अभियान चलाया जाएगा। इसकी शुरुआत दो अक्टूबर को ग्रेटर नोएडा वेस्ट में पंचायत कर की जाएगी। इस मौके पर ब्लाक प्रमुख अमरीश भाटी, नितिन भाटी, परमिंदर भाटी, कर्ण ठाकुर, पप्पू नागर आदि मौजूद रहे। Dainik jagran -29.09.2012

Noida Extension / Greater Noida West : UpdatesPosted on: 06 October 2012 09:12 am

Manu Bhai


I am sick of farmers now... What they want.. they already got componsation and now they want more.. after getting more money.. they will go to SC to want their land back.. what a mess

Noida Extension / Greater Noida West : UpdatesPosted on: 07 October 2012 06:05 am

Doraemon


[b]दीवाली तक चमक जाएगा ग्रेनो वेस्ट[/b] अमर उजाला ब्यूरो ग्रेटर नोएडा। ग्रेनो वेस्ट को चमकाने का काम शुरू हो गया है। बिल्डर साफ-सफाई करके फ्लैटों के निर्माण कार्य में जुट गए हैं। वहीं, प्राधिकरण ने भी पैसा आते ही सड़क निर्माण समेत अन्य विकास कार्य शुरू कर दिए हैं। पिछले आठ माह से बिल्डरों और प्राधिकरण का काम रुका हुआ था। जो ठेकेदार काम कर रहे थे, उनका पैसा भी बिल्डरों ने रोक दिया था। स्टे होने के कारण बुकिंग का काम भी बंद था। यही हालत प्राधिकरण की ओर से कराए जा रहे विकास कार्यों की हुई। प्राधिकरण ने करीब 1,600 करोड़ रुपये खर्च कर दिए थे, जबकि बिल्डरों ने करीब 10 हजार करोड़ रुपये खर्च किए थे। अब सब कुछ सामान्य हो गया है, लेकिन ठेकेदार बिल्डरों और प्राधिकरण से पहले पुराना भुगतान मांग रहे हैं। इसके बाद ही वे काम शुरू करना चाहते हैं। हालांकि, कुछ ठेकेदारों का भुगतान कर दिया गया है, जबकि कुछ का आंशिक हुआ है। प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने बताया कि ग्रेनो वेस्ट में विकास कार्य शुरू करने के निर्देश दे दिए गए हैं। उद्यान विभाग से ज्यादा से ज्यादा पौधरोपण करने को कहा गया है। ग्रेनो से एनएच-24 को जोड़ने वाले 80 मीटर चौड़े रोड की मरम्मत और सफाई का काम शीघ्र होगा। इसी तरह 130 मीटर चौड़ी रोड की मरम्मत और जो बाकी काम बचा है, उसे पूरा करने के लिए भी कहा गया है। यह रोड तीन मूर्ति गोल चक्कर से सिरसा तक 28 किलोमीटर लंबी है, जो शहर के बीचोबीच से होकर जाती है। •सड़कों की मरम्मत शुरू, बिल्डरों ने भी चालू किया काम http://epaper.amarujala.com/svww_zoomart.php?Artname=20121007a_005105011&ileft=689&itop=80&zoomRatio=276&AN=20121007a_005105011

Noida Extension / Greater Noida West : UpdatesPosted on: 07 October 2012 08:54 am

Barfi


Is this road from NH-24 to NE started..???

loading