GDA Sidharth Vihar Scheme - UpdatesPosted on: 2012-12-11

GDA Sidharth Vihar Scheme - UpdatesPosted on: 11 December 2012 09:21 am

RE guy


सिद्धार्थ विहार योजना : सिर्फ 425 आवेदन आए सिद्धार्थ विहार योजना में सिर्फ 425 लोगों ने ही फ्लैट के लिए आवेदन किया है। अधिशासी अभियंता एस. के. श्रीवास्तव का कहना है कि लोगों ने वन-बीएचके फ्लैटों में रुचि दिखाई है। सहायक आयुक्त विमल कुमार शर्मा ने बताया कि जिन फ्लैटों में संख्या से ज्यादा आवेदन आए हैं उनका जल्द ही ड्रा किया जाएगा। अप्रूवल मिलते ही शुरू होगा सबस्टेशन का काम वस ॥ वसुंधरा : दिल्ली-सहारनपुर योजना में निर्माण शुरू होने के साथ ही विद्युत सबस्टेशन का निर्माण भी शुरू होने को है। अगले हफ्ते तक योजना में 33 केवी सबस्टेशन का निर्माण शुरू हो जाएगा। अधिशासी अभियंता सी. पी. सिंह ने बताया कि सर्किल से सबस्टेशन के अप्रूवल आने का इंतजार है। अप्रूवल मिलते ही निर्माण शुरू कर दिया जाएगा। NBT

GDA Sidharth Vihar Scheme - UpdatesPosted on: 12 December 2012 03:03 pm

Sumit Khanna


So poor response

GDA Sidharth Vihar Scheme - UpdatesPosted on: 16 December 2012 08:18 am

RE guy



GDA Sidharth Vihar Scheme - UpdatesPosted on: 20 December 2012 06:18 am

RE guy



GDA Sidharth Vihar Scheme - UpdatesPosted on: 29 December 2012 09:15 am

RE guy


[b]सिद्धार्थ विहार में वन रूम फ्लैट्स लाने की तैयारी[/b] वसुंधरा आवास विकास परिषद सिद्धार्थ विहार में वन रूम वाले फ्लैट्स की हाउसिंग स्कीम लाने की तैयारी मंे जुट गया है। इसके लिए परिषद के खंड 16 से एक प्रस्ताव हाउसिंग कमिश्नर, लखनऊ के पास भेज दिया गया है। फ्लैट की कीमत 8 से 10 लाख के बीच हो सकती है। खंड-16 के एक्जिक्युटिव इंजीनियर एस. के. श्रीवास्तव ने बताया कि प्रस्ताव को मार्च 2013 तक मंजूरी मिलने की उम्मीद है। उसके बाद आवेदन आमंत्रित किए जाएंगे। आवास विकास परिषद प्रताप विहार मंे सिद्धार्थ विहार के नाम से हाउसिंग स्कीम लॉन्च कर चुका है। यहां पर वन रूम, टू रूम और पेंटा हाउस फ्लैट्स हैं। इनकी कीमत ज्यादा होने के चलते आम वर्ग तक इनकी पहुंच नहीं है। ऐसे में परिषद ने मिडल इनकम ग्रुप को ध्यान में रखते हुए 35 से 40 स्क्वॉयर मीटर वाले वन रूम प्लैट्स का प्रपोजल तैयार किया है। जहां तक कीमत का सवाल है, इनकी कीमत ईडब्ल्यूएस फ्लैट की कीमत से थोड़ी अधिक 8 से 10 लाख के बीच रहने का अनुमान है। आखिरी फैसला हाउसिंग कमिश्नर की मंजूरी के बाद ही लिया जाएगा। सिद्धार्थ विहार स्कीम से जुड़े अधिकारियों का कहना है कि प्रताप विहार को डिवेलप तेजी से करना है, इसके लिए जरूरी है कि वहां पर आबादी बसने के साथ दूसरी स्कीम व फैसिलिटी भी लाए। परिषद के चीफ आर्किटेक्ट, लखनऊ जी. एस. गोयल की मानें तो प्रताप विहार के सेक्टर-10 मंे हेल्थ फैसिलिटी शुरू करने को लेकर भी प्लानिंग की जा रही है। इसके लिए ले-आउट तैयार किया जा रहा है। इसका फायदा सिद्धार्थ विहार स्कीम से जुड़े लोगों को होगा। Navbharat Times

GDA Sidharth Vihar Scheme - UpdatesPosted on: 29 December 2012 09:36 am

RE guy



GDA Sidharth Vihar Scheme - UpdatesPosted on: 29 December 2012 11:24 am

RE guy


[b]मार्च तक सिद्धार्थ विहार में बनेंगे ईडब्ल्यूएस फ्लैट [/b] वसुंधरा (ब्यूरो)। नए साल में सिद्धार्थ विहार में 4000 फ्लैट के निर्माण को हरी झंडी मिलने वाली है। उम्मीद जतायी जा रही है कि यदि मुख्यालय भेजे गए इस प्रस्ताव पर मुहर लग जाती है तो मार्च तक निर्माण शुरू हो जाएगा। परिषद योजना में खाली पड़े प्लॉट पर एक कमरे के ईडब्ल्यूएस फ्लैट बनाने जा रहा है। इसके लिए शुक्रवार को प्रस्ताव आवास आयुक्त को भेजा गया। अधिशासी अभियंता एसके श्रीवास्तव ने बताया कि अभी फ्लैट की कीमत तय नहीं की गई है मगर इनकी कीमत आठ से 10 लाख रुपये के बीच में रहने की उम्मीद है। फ्लैट का क्षेत्रफल 35 से 40 वर्ग मीटर तक होगा। प्रस्ताव में फ्लैट का एरिया व अनुमानित लागत तय कर खंड-16 ने लखनऊ मुख्यालय भेजा है। उन्होंने बताया कि योजना का प्रस्ताव मार्च तक फाइनल हो जाएगा। परिषद के मुख्य आर्किटेक्ट (लखनऊ) जी एस गोयल के मुताबिक प्रताप विहार के सेक्टर-10 में चिकित्सकीय सुविधाएं शुरू करने की प्लानिंग Amar Ujala

GDA Sidharth Vihar Scheme - UpdatesPosted on: 09 January 2013 08:57 am

RE guy


रजिस्ट्री कराने पर सिद्धार्थ विहार स्कीम में मिलेगा कब्जा वसुंधरा : आवास-विकास परिषद ने सिद्धार्थ विहार ईडब्ल्यूएस फ्लैट अलॉटमेंट मामले में एक अहम फैसला किया है। स्कीम के अलॉटियों को अब पावर ऑफ अटॉर्नी से नहीं बल्कि रजिस्ट्री कराने पर ही कब्जा मिलेगा। पावर ऑफ अटॉर्नी पर रोक वाली परिषद की यह पहली स्कीम है। 1984 फ्लैट्स की इस स्कीम में कई प्रॉपर्टी डीलर्स और अयोग्य लोगों को अलॉटमेंट के मामले सामने आए हैं। इसके बाद परिषद अफसरों ने फैसला किया कि अलॉटियों को सीधे अपने नाम पर रजिस्ट्री करानी होगी। साथ ही रजिस्ट्री कराने उन्हें खुद ही आना होगा। उप आवास आयुक्त एस. वी. सिंह ने बताया कि एक ही पते पर कई अलॉटमेंट के मामले में सभी लोग अलग परिवार के बताए गए हैं। ऐसे में फ्लैट्स को गलत हाथों से बचाने के लिए यह फैसला किया गया। अलॉटी के खुद नहीं आने पर अलॉटमेंट कैंसल कर दिया जाएगा। NBT

GDA Sidharth Vihar Scheme - UpdatesPosted on: 14 February 2013 06:04 am

RE guy


[b]लेआउट प्लान में हो सकती है फेरबदल[/b] वसुंधरा।। सिद्धार्थ विहार योजना के ले आउट में बदलाव किया सकता है। लिंक रोड पर प्रस्तावित आरओबी के चलते योजना के ले-आउट मंे परेशानी आई है। इसके लिए जीडीए ने आवास विकास परिषद को पत्र लिखा है। मेरठ तिराहे से एनएच-24 तक जाने वाली प्रस्तावित न्यू लिंक रोड पर एक आरओबी बनाया जाना है। इस आरओबी के चलते परिषद की करीब बीस एकड़ जमीन को एंट्री के लिए कहीं रास्ता नहीं मिलेगा। वर्तमान ले आउट में परिषद ने जो एंट्री गेट इस जमीन के लिए छोड़ा है वह आरओबी के नीचे आ रहा है। ऐसे में ले आउट को बदलकर अब इंटर्नल सड़कों को दोबारा प्लान किया जाएगा। संयुक्त आवास आयुक्त विमल कुमार शर्मा का कहना है कि अभी जीडीए के पत्र और ले आउट की स्थिति की विस्तृत जांच की जा रही है। इसके बाद कोई निर्णय लिया जा सकेगा। NBT

GDA Sidharth Vihar Scheme - UpdatesPosted on: 14 February 2013 08:21 am

RE guy



GDA Sidharth Vihar Scheme - UpdatesPosted on: 14 February 2013 09:19 am

Laghu Khanna


[b]सिद्धार्थ विहार में जीडीए बनाएगा ग्रुप हाउसिंग![/b] सिद्धार्थ विहार में सिंचाई विभाग की खाली पड़ी करीब 25 एकड़ जमीन पर जीडीए हाउसिंग स्कीम लॉन्च करने का प्लान तैयार कर रहा है। प्राइम लोकेशन की इस जमीन पर ग्रुप हाउसिंग डिवेलप कर जीडीए मोटी कमाई करना चाह रहा है। जीडीए के प्रॉपर्टी अधिकारी जी. एन. वर्मा ने इसकी पुष्टी की। उन्होंने इससे आगे कुछ भी बताने से इनकार कर दिया। सिद्धार्थ विहार कॉलोनी को आवास विकास परिषद विकसित कर रहा है। यह कॉलोनी करीब 700 एकड़ में फैली है। प्राइम लोकेशन की इस कॉलोनी के एक ओर एनएच-24, प्रताप विहार और दूसरी और हिंडन नदी है। इस कॉलोनी की लोकेशन को जोड़ती हुई जीडीए नई लिंक रोड बनाने जा रहा है। करीब 150 करोड़ रुपये के इस प्रोजेक्ट का टेंडर पहले ही छोड़ दिया गया है। यह रोड इस कॉलोनी के पास ही एनएच-24 रोड को मेरठ रोड तिराहे के पास एनएच-58 को जोड़ेगी। नई लिंक रोड प्रोजेक्ट में आवास विकास परिषद शेयरिंग नहीं कर रहा है। इस कॉलोनी में सिंचाई विभाग की करीब 25 एकड़ और नगर निगम की करीब 40 एकड़ जमीन है। नगर निगम ने कई साल पहले एक प्रस्ताव पास कर अपनी जमीन आवास विकास परिषद को सौंप दिया था। इसके लिए उसने कुछ शर्त लगाई हुई है। जीडीए सूत्रों का दावा है कि इस जमीन को लेने के लिए जीडीए और सिंचाई विभाग के बीच अब तक दो दौर की बैठक भी हो चुकी है। जीडीए के लिए कमाई का सौदा सिंचाई विभाग की जमीन पर जीडीए की ग्रुप हाउसिंग फायदे का सौदा माना जा रहा है। दरअसल जीडीए इस कॉलोनी को इंदिरापुरम एक्सटेंशन स्कीम को जोड़ने के लिए हिंडन नदी पर पुल भी बनाएगा। ऐसे में जीडीए की प्रस्तावित ग्रुप की लोकेशन और भी खास होगी। कब तक मिल जाएगी जमीन जीडीए और सिंचाई विभाग के बीच 25 एकड़ जमीन को लेकर जल्दी ही डील फाइनल होने की संभावना है। सिंचाई विभाग के एक अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि जल्दी ही डील फाइनल होने जा रही है। इसमें अधिक से अधिक एक महीना लग सकता है। NBT

GDA Sidharth Vihar Scheme - UpdatesPosted on: 19 February 2013 07:34 am

RE guy



GDA Sidharth Vihar Scheme - UpdatesPosted on: 24 February 2013 06:10 am

RE guy



GDA Sidharth Vihar Scheme - UpdatesPosted on: 01 March 2013 08:56 am

Doraemon


[b]पुनर्विचार के लिए बनाया जाएगा दबाव[/b] वसुंधरा आवास विकास परिषद ने सिद्धार्थ विहार हाउसिंग स्कीम के पास स्लॉटर हाउस बनाने के निगम के निर्णय पर कड़ा एतराज जताया है। इस सिलसिले मंे गुरुवार को वसुंधरा सर्कल के अधिकारियों की मीटिंग बुलाई गई, जिसमें यह फैसला लिया गया है कि इस मसले पर परिषद की तरफ से डीएम और नगर आयुक्त को पत्र लिखकर निगम के फैसले पर पुनर्विचार की मांग की जाएगी। 'निगम अपनी मर्जी चला रहा है' परिषद का रुख साफ है कि वह किसी सूरत में योजना के अंदर इसका निर्माण करने की अनुमति नहीं देगा। सिद्धार्थ विहार योजना को देख रहे अधिशासी अभियंता एस. के. श्रीवास्तव ने बताया कि निगम पहलेे से ही वहां पर अपनी मर्जी चला रहा है। उनकी योजना की जमीनों पर शहर का सारा कूड़ा डाला जा रहा है। इस बारे में कई बार लेटर लिखकर आपत्ति जताई जा चुकी है। ऐसे में अब स्लॉटर हाउस बनाने का फैसला पूरी तरह से अस्वीकार्य है। निगम इसके लिए किसी दूसरी जगह का चुनाव करें। परिषद की तरफ से यह पत्र शुक्रवार तक भेज दिए जाएंगे। स्कीम पर मंडरा रहा है खतरा सिद्धार्थ विहार मंे परिषद की मल्टी स्टोरी हाउसिंग स्कीम के निर्माण का काम चल रहा है। इस स्कीम में पहले से ही रेट के चलते आवेदन कम आए हैं। ऐसे मंे इस इलाके को पॉपुलर करने के लिए परिषद यहां एलआईजी स्कीम की योजना लेकर आने जा रहा है। स्लॉटर हाउस बनाने के मसले पर सुपरिंटेंडेंट इंजीनियर से भी हाउसिंग प्रोजेक्ट से जुड़े अफसरों ने संपर्क किया और उन्हें पूरी स्थिति से अवगत कराया। अधिकारियों का कहना है कि परिषद इस कॉलोनी के डिवेलपमेंट को लेकर नई प्लानिंग में जुटा हुआ है। वहीं आवासीय कॉलोनी के अंदर स्लॉटर हाउस आने से स्कीम के पूरी तरह से फ्लॉप होने का खतरा अभी से शुरू हो गया है। परिषद के अधिकारी भी दबी जुबान से इस बात को मान रहे हैं। NBT

loading